लगातार समाज को नयी दिशा देकर समाज सुधारने में आगे बढ़ रहा है जयस -विधायक माधोसिंह डावर

भाबरा । शहीद चन्द्रशेखर आजाद नगर(भाबरा)में 4 दिसम्बर को जननायक तंट्या भील के सहादत दिवस पर सांस्कृतिक सम्मेलन किया गया जिसमे जिले भर के साथ साथ राजस्थान से भँवरलाल परमार,गुजरात से खराड़ी,धार से महेंद्र कन्नौज सहित हजारो कार्यकर्ता मौजूद रहे।
सुबह 11 बजे रेस्ट हाउस से रैली का प्रारम्भ हुआ जिसमे पारम्परिक वाद्य यन्त्र डी0जे0,ढोल मांदल के साथ साथ पारम्परिक वेशभूषा में युवक युवतियां,किसान थिरकते नजर आये।
रैली नगर के प्रमुख मार्ग से होकर टाउन हाल में 1 बजे लगभग पहुची जहाँ समाज के कार्यकरताओ द्वारा भव्य स्वागत पुष्प वर्षा के साथ तिलक लगाकर गांने गाकर किया गया।जहा सभा का आयोजन किया गया।
सभा में शुरुवात पुजारे तडवी द्वारा आदिवासी परम्परा अनुसार पूजा मन्त्र बोलकर कर तंट्या भील की फ़ोटो पर माल्यार्पण कर शहीद चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर शुरू किया गया।
शुरुवात में स्वागत भाषण बसन्त अजनार द्वारा दिया जिसमे उपस्थित सभी जनप्रतिनिधियो,और कार्यकरताओ का तालियों से स्वागत करवाया गया।
शंकर तड़वाल द्वारा तंट्या भील के जीवन पर प्रकाश डाला और परम्पराओ को जीवित रखने की अपील की।
उसके पश्चात् नितेश अलावा द्वारा अपने वक्तव्य में समाज की दिशा और दशा से अवगत कराया,बनवासी कल्याण परिषद के कार्यो की सराहना की गयी,समाज में मजदूरो,किसानो की स्थिति से अवगत करवाकर समाज को एकता के सूत्र में बाँधने हेतु समाज के अधिकारी-कर्मचारी,जनप्रतिनिधि सभी को एक साथ एक मंच पर कार्य करने को कहा।जयस की उपलब्धियां बताते हुए जयस को जाती,पार्टी,धर्म के ऊपर समाज हित में योगदान देकर कार्य करना बताया और इस सामजिक संगठन को पार्टी से जोड़ना गलत बताया।बिरसा मुंडा,तंट्या भील के योगदान को बताकर समाज को उनके सिद्धांतो पर कार्य करने को कहा।
राजस्थान के भँवरलाल परमार द्वारा जनप्रतिनिधियो को 5वीं,6टी अनुसूची को समझकर समाज के साथ खड़े रहने की बात कहकर कहा के सरकारी किताबो में आदिवासियों को सभी धर्मो से अलग बताना खेद जनक बताया,और समाज की संस्कृति,परम्परा को निभाने की बात कही।
महेंद्र कन्नौज द्वारा बैकलॉग भर्ती,प्रमोसन में आरक्षण जेसे मुद्दों को हमारे जनप्रतिनिधि को गम्भीरता से लेने की बात कही और अपील की के अगले विश्व आदिवासी दिवस पर राज्य स्तरीय अवकाश रखने के लिए हमारे विधायक सांसदों को प्रयाश करने की अपील की,जयस के बेनर जिसमे तंट्या भील की फ़ोटो थी को कुछ लोगो द्वारा फाड़कर फेकना समाज का अपमान तंट्या भील का अपमान बताया और समाज के लोग होने से हम उग्र न होना बताया सवेंधानिक कार्य करने वालो को भड़काने की गन्दी साजिश बताकर
आदिवासियों को वनवासी कहना अपमानजनक बताया।
वही छेत्र के विधायक श्री माधुसिह डावर द्वारा तंट्या मामा को याद करते हुए जयस के सामाजिक कार्यो को सराहना की और युही आगे भी करते रहने को कहा जिसमे पूरा सहयोग देने और समाज में दान देने की आदत डालने की बात कही साथ ही गत दिनों भाबरा के पलायित मजदूर में 13 लोगो की दुसर्घटना में मौत होने से उन्हें मुआवजा दिलाने की बात रखी।
श्री डावर द्वारा जयस की क्रांतिकारी सोच और जयस द्वारा आदिवासी हित,क्रान्तिकारियो के बारे में जागरूक करने वाले काम की तारीफ़ की।
पश्चात मुकेश रावत द्वारा भी आदिवासी छात्र संघ द्वारा चुनाव में आई समस्या बताई और समाज के लोगो को समर्थन करने की अपील की।
सञ्चालन केशरसिंह बामनिया,और आभार सज्जन जमरा द्वारा माना गया।
इस दौरान जनपद अध्यक्ष श्री इंदरसिंह चौहान,अलीराजपुर से पार्षद महेश भीण्डे,जेना गहड़वाल सहित कहि समाज के गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

अलीराजपुर