आदिवासी बालिका की मौत पर राजनीती न करे राजनेता : जयस

जयस युवाओ ने ग्राम बड़दा (टांडा) की घटना की निष्पक्ष जाँच की मांग को लेकर सिटी मजिस्ट्रेट दिव्या पटेल को राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

संगठन सदस्यों ने मृतक बालिका के परिजन को एक करोड़ रूपये मुआवजा एवं परिवार के एक सदस्य को सरकारी नोकरी देने की रखी मांग

धार । शुक्रवार को जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस) के युवाओं ने मुख्यमन्त्री की जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान बिजली के तार से करंट लगने से ग्राम बड़दा की आदिवासी बालिका की मौत की घटना को लेकर माननीय राज्यपाल के नाम सिटी मजिस्ट्रेड दिव्या पटेल को एक ज्ञापन सौंपा । ज्ञापन में बताया कि ग्राम बड़दा (टाण्डा)- में शासन-प्रशासन की भारी लापरवाही के चलते 24 अगस्त 2018 शाम को मुख्यमन्त्री की जनआशीर्वाद यात्रा के आड़े आ रहे बिजली के तार काट कर नीचे फेंक दिए थे । जिससे बालिका पिंकी उम्र 6 वर्ष नीचे पड़े बिजली के तारो की चपेट में आ गयी उसकी मौत हो गयी थी वहां से महज़ 500 मीटर दूरी पर एक आदिवासी परिवारजन एवं आदिवासी समाज रोड़ पर ही 2 घंटे तक धरने पर बैठे थे यात्रा आते ही उन्हें वहा से मात्र 5 हजार की सहयोग राशि देकर प्रशासन द्वारा हटाया गया लेकिन मुख्यमंत्री उन आदिवासी परिवार के पास भी नही गए जो अपनी बच्ची को खो चुके थे । जयस युवाओ ने ज्ञापन के माध्यम से राज्यपाल से मांग की है मृतक बालिका के परिवार को एक करोड़ रूपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जावे एवं परिवार के एक सदस्य को सरकारी नोकरी दी जावे वही कहा की आदिवासी जनप्रतिनिधियो के साथ अभद्र व्यवहार करने वाले राजनैतिक दलो से जुड़े नेताओ पर उचित कार्यवाही करें । वही संगठन सदस्यों का कहना है की उक्त घटना आदिवासी समाज की एक बड़ी घटना है और ऐसे मामलो में राजनैतिक पार्टियो से जुड़े नेतागण आदिवासी बालिका की मौत पर गन्दी राजनीती न करें । वही प्रशासन उक्त घटना को गंभीरता पूर्वक लेकर निष्पक्ष जाँच करें । जयस युवाओं ने चेतावनी दी है कि अगर निष्पक्ष जाँच नही होती है तो जयस युवा चरणबद्ध आंदोलन करेंगे । इस दौरान जयस प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र कन्नौज, समाज प्रवक्ता विज्जू चोपड़ा, जयस नारी शक्ति अंकिता अमलियार, पीजी कॉलेज उपाध्यक्ष मोनिका मुकाती, सुमित्रा मकवाना, नाजी जिलाध्यक्ष संजय मण्डलोई, आदिवासी छात्र संगठन के जिलाध्यक्ष मुकाम सिंह अलावा, संजय सिंह मण्डलोई, मोहन मोरी अम्बासोटी, संतोष सोलंकी, जितु कटारे, भानु प्रताप अलावा, सिंघाना जयस कमल बुन्देला, कुक्षी जयस कमलेश सोलंकी, कृष्णा गुंडिया, प्रकाश डावर, सुनील रावत, राहुल चौहान, मड़िया बघेल, समीर डोडवे, मुकेश वसुनिया, गोलू बघेल आदि उपस्थित थे ।

धार