HEALTH

,

आजकल मेडिकल टेक्नॉलॉजी काफी एडवांस हो गई है लेकिन आज से 300 या 400 साल पहले डॉक्टर इलाज और ऑपरेशन के लिए काफी जटिल औजारों का इस्तेमाल करते थे। हम यहां आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे खतरनाक किस्म के औजारों के बारे में जिनके जरिए पुराने जमाने में इलाज और ऑपरेशन्स किए जाते थे।
 
with thanks
 
dainik bhaskar
http://www.bhaskar.com/

गरीबो के भगवान डॉ. छारी ने गंभीर घायल की बचाई जान, मस्तिष्क मे था अत्यधिक रक्त का श्राव एवं जमाव

अत्यधिक रक्त के जमाव से 5 mm बायीं ओर खिसका

गुनगुने पानी में शहद और नींबू का रस डालकर रोज सुबह पीने से हेल्थ से जुड़ी कई प्रॉब्लम्स में फायदा होता है। नींबू में मौजूद एसिड और फाइबर्स के अलावा एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टी कई तरह से फायदा करती है। वहीं शहद एंटीबायोटिक के रूप में फायदा करता है। गुनगुने पानी के साथ यह कॉम्बिनेशन लेने से पेट और स्किन से जुड़ी कई प्रॉब्लम्स से बचाव होता है।

टायफायड यानी मियादी बुखार एक ऐसी बीमारी है जिससे रोगी एक लंबे और निश्चित समय तक पीडि़त रहता है। संसार में तीन करोड़ से भी ज्यादा लोग हर साल इसका शिकार होते हैं। यह रोग सालमोनेला टायफी नामक जीवाणु के संक्रमण से पैदा होता है। विकसित देशों में यह बीमारी बहुत कम होती जा रही है इसका कारण वहां पर उपलब्ध बेहतर जन−स्वास्थ्य की सुविधाएं हैं। इसके साथ ही वहां साफ सफाई और खानपान पर विशेष ध्यान दिया जाता है, लेकिन जनस्वास्थ्य सुविधाओं की सीमितता व अन्य कारणों की वजह से विकासशील देशों में आज भी यह बीमारी एक गंभीर रोग के रूप में मौजूद है। टायफायड बुखार हर उम्र के बच्चों, युवाओं और बूढ़